Type Here to Get Search Results !

2 Lines Shikayat Shayari in Hindi - Khuda se Shikayat Shayari - Shikwa Shikayat Shayari in Hindi

0

 अगर आप 2 lines shikayat shayari in hindi ढूंढ रहे हैं तो आप सही website पर आयें हैं, अगर आप shikayat shayari ढूंढ रहे हैं तो सही website पे आयें हैं, मैं आपको अच्छी से अच्छी shikayat shayari देने की कोशिश करूंगा|

अगर आपको किसी से शिकायत है तो आप इन shayari को उसे send कर सकते हैं, अगर आपको अपने BF, GF से शिकायत है तो आप उसे ये shayari भेज सकते हैं|

आज मैं आपको Khuda Se Shikayat Shayari in Hindi, Ab Kisi se Koi Shikayat nahi Shayari, Shikwa Shikayat Shayari in Hindi जैसी shayari आपको दूंगा|

आप जिसे सबसे ज्यादा प्रेम करते हैं अंत में वाही आपको प्रेम ना करना सिखाता है

नहीं शिकायत रही अब मुझे तेरी नजरंदाजी से, तू बाकियों को खुश रख हम तन्हा भी अच्छे हैं|

जो दिल में शिकवे और जुबान पर शिकायत कम रखते हैं वहीँ हर रिश्ता निभाने का दम रखते हैं

उसे इंतज़ार से क्या शिकायत, जो तेरे इंतज़ार पे ख़त्म हो


हम तो नाम भी नहीं लेते उनका किसी के सामने, खुदा जाने उन्हें शिकायत किस बात से है|
2 Lines Shikayat Shayari in Hindi

Khuda se shikayat shayari in Hindi 

तोड़ दिया हमने सबसे रिश्ता उम्मीद का, अब किसी से हम शिकायत नहीं करेंगे

तुझसे कोई शिकायत हम करे भी  तो कैसे करें, दिल ही इजाज़त नहीं देता तेरे खिलाफ बोलने की

टूट जाते हैं रिश्तें अक्सर शिकायत करने से, छोटी छोटी बातों को दिल से न लगाया करें 

आप नाराज हों, रूठें, के खफा हो जाएं बात इतनी भी ना बिगड़े की जुदा हो जाएँ

2 Lines Shikayat Shayari in Hindi

तुझसे नाराज नहीं जिंदगी हैरान हूँ में..! तेरे मासूम सवालों से परेशान हूँ में..

शिकायत तुमसे नहीं, जिंदगी से है वो बात अलग है की तुम ही जिंदगी हो

कभी अपने माँ बाप को शिकायत का मौका मत देना, चाहे कितना भी हो मन ख़राब उनसे कभी बुरा मत कहना|

तुझसे कोई शिकायत हम करें भी तो कैसे करें, दिल ही इजाज़त नहीं देता तेरे खिलाफ बोलने की|

उस शख्श की चाहत में कमी हो ही नहीं सकती, जो दिल टूटने पर भी कभी शिकायत ना करें|
2 Lines Shikayat Shayari in Hindi

Shikayat Nahi Kisi Se Shayari in Hindi

हालात-किस्मत और वक्त की बात है, वर्ना मैं इतना बुरा नहीं जितना तुम सोच रहे हो|

वो क्यों नहीं समझता मेरी खामोशी को, क्या प्यार का इजहार करना जरूरी है|

जब भी माँगा वाही माँगा जो मुकद्दर में न था, अपनी हर एक तमन्ना से शिकायत है मुझे|

न कर सका खुदा से शिकायत तुम्हारी, आखिर मैंने माँगा भी तो तुम्हे ही था अपनी दुआओं में|
2 Lines Shikayat Shayari in Hindi

हद से बढ़ गया है तेरा नजर अंदाज करना, एसा सलूक न करो की हम भूलने पे मजबूर हो जाए|

ठहर जाते तो शायद मिल जाते हम तुम्हें, इश्क में इन्तजार किया करते है जल्दबाजी नहीं|

आपको हमारी 2 Lines Shikayat Shayari in Hindi कैसी लगी? अगर आपको shayari अच्छी लगी हों तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें|

 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ